गले के इंफेक्शन से तुरंत राहत दिलाती है ये खास औषधि, रह जाएंगे दंग

खदिरादि वटी एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है जो मुंह की समस्याओं से लेकर गले के संक्रमण तक का इलाज कर सकती है. सालों से इस आयुर्वेदिक दवा का उपचार कई बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है. अगर आपके मुंह में छाले पड़ गए हैं, दांतों में फंगस या दर्द की समस्या है या फिर गले से संबंधित कोई इंफेक्शन है तो इन सभी समस्याओं का रामबाण है खदिरादि वटी. खदिरादि वटी आयुर्वेदिक दवा है जो औषधिय गुणों से भरपूर है.

चलिए जानते हैं खदिरादि वटी के फायदों के बारे में.

अगर आपकी आवाज बैठ गई है या बोलने में दिक्कत हो रही है तो इस समस्या में खदिरादि वटी बहुत फायदेमंद है.

अक्सर लोगों को सांस में से बदबू आने की समस्या होती है. यदि आपके साथ भी ऐसा है तो आप खदिरादि वटी दवा का सेवन कर सकते हैं.

कई बार अस्वस्थ भोजन करने या फिर पेट खराब होने से मुंह में छाले पड़ जाते हैं. मुंह के छालों को सही करने का रामबाण है खदिरादि वटी.

बदलते मौसम में होने वाली सर्दी और खांसी के कारण गला खराब हो जाता है. इस समस्या का इलाज भी खदिरादि वटी के सेवन से दूर किया जा सकता है.

अगर आपके स्वाद का जायका बिगड़ गया है या फिर आपको खाने में कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा तो आप दो गोली खदिरादि वटी की खाएंगे तो आपका मुंह का स्वाद पहले जैसा ही हो जाएगा.

कैसे करें खदिरादि वटी का सेवन-

खदिरादि वटी भूरे रंग की गोलियों में आती है. आप दिनभर में 500 मिलीग्राम तक इसका सेवन कर सकते हैं. खदिरादि वटी का सेवन करने के लिए पानी की जरूरत नहीं. इन गोलियों को मुंह में डालकर सिर्फ चूसना होता है.

खदिरादि वटी में मौजूद तत्व-

आप चाहें तो घर में भी खदिरादि वटी बना सकते हैं. इसमें कई तरह की सामग्री का इस्तेमाल होता है. जैसे- 48 ग्राम खैरसार कत्था, 12 ग्राम सुपारी, 12 ग्राम कंकोल मिर्च, 12 ग्राम कपूर, 12 ग्राम जावित्री और पानी. सभी सामग्री को पीसकर पाउडर बना लें और पानी मिलाकर इस मिश्रण को सुखा लें और छोटी-छोटी गोलिया बना दें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *