संजीवनी बूटी से कम नहीं है तुलसी, होते हैं ये 4 स्वास्थ्य लाभ

तुलसी एक ऐसी आयुर्वेदिक जड़ीबूटी है जिसका भारतीय धर्म में बहुत महत्व हैं. ये पूजनीय होने के साथ-साथ महान् गुणों की खान हैं. ऑसीमम सैक्टम को पवित्र तुलसी माना जाता है जिसका उपयोग पुराने समय से विभिन्न रोगों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता रहा हैं. विभिन्न औषधीय गुणों की खान होने के कारण आयुर्वेद में तुलसी का विशेष स्थान हैं.

औषधीय व आयुर्वेदिक महत्त्व

आयुर्वेद में तुलसी को संजीवनी बूटी की संज्ञा दी गई हैं. एक छोटा सा तुलसी का पौधा बड़ी-बड़ी बिमारियों के इलाज में फायदेमंद होता हैं. तुलसी के पौधे का हर भाग स्वास्थ्य वर्धक होता हैं. तुलसी की जड़, उसकी शाखाएं, पत्ती और बीज सभी का अपना-अपना अलग महत्व है. तुलसी में कई ऐसे गुण होते हैं जैसे ये विटामिन ए गुण, एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल व एंटीबायोटिक जो घर में बैक्टीरिया-वायरस नहीं पनपने देते. एक अध्ययन के अनुसार, तुलसी में मौजूद रासायनिक योगिक शरीर में संक्रमण से लड़ने वाली एंटीबॉडी के उत्पादन में 20% तक की वृद्धि करते हैं.

आयुर्वेद के अनुसार तुलसी के पत्तों में आश्चर्यजनक गुण होते है. आइये जानते है –

1.इम्यून सिस्टम मज़बूत – तुलसी के पत्तों में गुण होता है इसका एंटी ऑक्सीडेंट गुण. हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में इम्यून सिस्टम जितना मज़बूत होता है उतना ही अधिक हम स्वस्थ रहते हैं. तुलसी के पत्तों का सेवन करने से इम्यून सिस्टम मजजूब बनता हैं.

2. सर्दियों में फायदें – सर्दियों के दिनों में खाँसी, जुकाम, फ्लू, वाइरल, बुखार आदि से बचाने में तुलसी का सेवन फायदेमंद होता हैं. तुलसी की पत्तियों को पानी में उबालकर पानी पीने से या तुलसी के पत्तों को मिश्री, काली मिर्च के साथ पानी में उबालकर पीने से सर्दियों में ख़ास फायदा होता हैं.

3.बच्चों की बीमारियों में – बच्चों की छोटी-छोटी स्वास्थ्य से सम्बंधित बिमारियों में जैसे सर्दी, बुखार, उल्टी दस्त, चिकनपॉक्स (माता) आदि में तुलसी के पत्तों का रस बहुत फायदा करता हैं. बच्चों को दूध में या पानी में तुलसी के पत्तों को उबालकर देने से सभी बिमारियों में आराम मिलता हैं.

4.बारिश के दिनों में – बारिश के आते ही बीमारियां जैसे मलेरिआ, डेंगू, चिकनगुनिआ आदि आ जाती है जिसके कारण हम हर संभव प्रयास करते है कि हम बच जाएँ. ऐसे में सिर्फ एक तुलसी का पौधा हमारी सहायता. तुलसी वातावरण को स्वच्छ बनाने और तुलसी के रस में पाए जाने वाले प्रोटोजोवा में मच्छर को भगाने की गंध होती हैं. बिमारियों और मच्छर से बचने के लिए तुलसी का पौधा घर के बाहर अवश्य लगाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *