Ram Janmabhoomi Mandir News: भूमि पूजन की तैयारी पूरी, दिव्य वातावरण में सजी अयोध्या

BJP नेता श्री लाल कृष्‍ण आडवाणी और डॉ. मुरली मनोहर जोशी से विमर्श के बाद बनाई गई अतिथियों को आमंत्रित करने की सूची.

JaiShriRam_PujaPandit

Jai Shri Ram: श्रीराम, जानकी, भरत, लक्ष्‍मण, शत्रुघ्‍न और हनुमान की वह तस्‍वीर जो हर घर में दिखता है.

अयोध्‍या के श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण शुभारंभ कार्यक्रम में कुल 175 महानुभावों को आमंत्रित किया गया है. देश की कुल 36 आध्यात्मिक परम्पराओं के 135 पूजनीय संतों की पावन उपस्थिति कार्यक्रम में रहने वाली है. इसके साथ-साथ अयोध्या के कुछ गणमान्य नागरिकों को भी आमंत्रित किया गया है. यह जानकारी श्रीराम जन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महामंत्री एवं विश्‍व हिन्‍दू परिषद के केन्‍द्रीय उपाध्‍यक्ष श्री चम्‍पत राय ने कारसेवकपुरम, अयोध्‍या में आयोजित एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में दी. यह प्रेस कॉन्‍फ्रेंस 5 अगस्‍त 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुभारम्‍भ किए जाने वाले मंदिर निर्माण एवं भूमिपूजन संबंधित कार्यक्रम की जानकारी देने के लिए सोमवार 3 अगस्‍त को सायं 4 बजे आयोजित की गई थी.

श्रीराम जन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महामंत्री चम्‍पत राय ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि निर्माण शुभारंभ में अतिथियों को आमंत्रित करने में कई बातों का ध्यान रखा गया है. उन्‍होंने कहा कि आमंत्रण सूची को बनाए जाने से पहले इस मुद्दे पर भारतीय जनता पार्टी के संस्‍थापक एवं पार्टी के वरिष्‍ठ नेता लालकृष्‍ण आडवाणी, डॉक्‍टर मुरली मनोहर जोशी, श्री पारासरन जी, श्री शंकराचार्य वासुदेवानन्द जी व अन्य महानुभावों से व्यक्तिगत रूप से चर्चा की गई. उसके बाद ही ही आमंत्रण सूची बनाई गई.

कोरोना महामारी और अन्य कुछ कारणों से कुछ महानुभावो के आगमन में बाध्यताएं हैं. 90 वर्ष से अधिक आयु के महानुभावों का इस अवस्था में अयोध्या तक आना न तो सम्भव है, न ही व्यवहारिक. इसी प्रकार चातुर्मास के कारण पूज्य शंकराचार्य जी व कई पूज्य संत भी कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो पाएंगे.

प्रेस वार्ता में श्रीरामजन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चम्‍पत राय ने बताया कि देश के लगभग 2000 पावन तीर्थस्थलों की पवित्र मिट्टी और लगभग 100 पवित्र नदियों का पावन जल श्रीरामभक्तों द्वारा भूमि पूजन के निमित्त भेजा गया है. उन्‍होंने कहा कि इसके अतिरिक्त देश भर से पूज्य शंकराचार्यों और पूजनीय सन्तों ने अपने प्रेम और श्रद्धा स्वरूप विभिन्न भेंट भेजी हैं.

श्रीरामजन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चम्‍पत राय ने बताया कि भूमि पूजन में श्री अशोक सिंहल जी के परिवार से श्री महेश भागचन्दका व श्री पवन सिंहल मुख्य यजमान होंगे. चम्‍पत राय ने कहा कि हम सभी रामभक्तों से आह्वान करते हैं कि इस अवसर पर जैसा दिव्य वातावरण अयोध्या में दिख रहा है, वैसा ही देश के सभी नगरों और ग्रामों में दिखना चाहिए. भजन, कीर्तन, प्रसाद वितरण के कार्यक्रम सब स्थानों पर कोरोना महामारी की सावधानियां बरतते हुए आयोजित करने का हम करबद्ध निवेदन करते हैं.

ज्ञात हो कि भारतीय जनता पार्टी के वरिष्‍ठ नेता श्री लालकृष्‍ण आडवाणी के नेतृत्‍व में राम मंदिर आन्‍दोलन शुरू हुआ था और तमाम संघर्षों से गुजरते हुए अब 5 अगस्‍त से मंदिर का निर्माण कार्य होने जा रहा है. श्रीराम के वनवास के बाद अयोध्‍या वापसी पर जिस तरीके से पूरे नगर को सजाया गया था लगभग वैसी ही सजावट फिर से पूरे नगर में की गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस पावन कार्य में भागीदार बनने 5 अगस्‍त को यहां उपस्थित रहेंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आगमन को लेकर अयोध्‍या की सुरक्षा व्‍यवस्‍था को विशेष रुप से चाकचौबंद किया जा रहा है. यह सुरक्षा दो स्‍तरों पर की जा रही है- पहला स्‍तर तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई वरिष्ठ नेता, उद्योगति और साधु-संतों के आगमन की दृष्टि से उनकी सुरक्षा व्यवस्था और दूसर स्‍तर कोरोना महामारी से बचाव की सुरक्षा. अतिथियों के स्वागत के लिए साकेत महाविद्यालय से लेकर रामजन्मभूमि परिसर तक सड़क के दोनों ओर सजावट की तैयारी चल रही है. इसके साथ ही हनुमानगढ़ी एवं भूमि पूजन स्थल को भी सजाया जा रहा है.

अयोध्‍या में उत्‍सव की तैयारी

कार्यक्रम के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को सुबह साढ़े 11 बजे चौपर से साकेत महाविद्यालय के ग्राउंड पहुंचेंगे. उनकी अगवानी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ ही श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के ट्रस्टी करेंगे. प्रधानमंत्री यहां से हनुमानगढ़ी दर्शन-पूजन करने जाएंगे और फिर वहां से रामलला के दरबार में पहुंचेंगे. इस क्षेत्र में सुरक्षा की जिम्‍मेदारी एसपीजी के हवाले कर दी गई है.

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार करीब ढाई सौ लोगों को डिस्टेसिंग के साथ बैठाने के लिए पंडाल का इंतजाम किया गया है. वहीं दो अलग-अलग मंच भी तैयार किए जा रहे हैं. एक मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत, प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास बैठेंगे.

Ram Janmabhoomi Mandir News
Shri Ram Janmbhoomi Teerth Kshetra

कोरोना संकट को ध्‍यान में रखते हुए मंदिर परिसर में अलग-अलग कई टीमें पूरे राम जन्मभूमि परिसर को सैनिटाइज करने में लगी हुई है. वहां जो काउंटर बनाए गए हैं वहां पर स्वास्थ्यकर्मियों की ड्यूटी के साथ थर्मल स्कैनर, थर्मामीटर, पल्स-ऑक्सीमीटर की व्यवस्था की गई है. भूमि पूजन में आने वाले सभी लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग के साथ उनके पल्स व ऑक्‍सीमीटर लेवल की भी जांच होगी.

इससे पहले श्री राम जन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने ट्विट कर यह जानकारी दी थी कि देश के अलग अलग भागों से लोग वहां की पावन मिट्टी और नदियों के पवित्र जल भेज रहे हैं. श्री राम जन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने अपने ट्विट पेज पर विभिन्न स्थानों से अयोध्या पहुंचे जल के कलश और मिट्टी से भरे पात्र की तस्‍वीर शेयर करते हुए लिखा था कि देश के सभी प्रमुख तीर्थस्थलों, राष्ट्रीय महत्व के स्थानों और पवित्र नदियों से पावन मिट्टी और जल, श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर के निर्माण हेतु अयोध्या में पहुंच रहा है.

इसमें श्री बद्रीनाथ धाम, छत्रपति शिवाजी महाराज के किला रायगढ़, श्री रंगनाथस्वामी मन्दिर, तमिलनाडु, श्री महाकालेश्वर मंदिर, हुतात्मा चन्द्रशेखर आज़ाद एवं बलिदानी बिरसा मुंडा की जन्मभूमि सहित सभी तीर्थों और बलिदानी वीरों के प्रेरणा स्थलों से मिट्टी, जल और अन्य वस्‍तुएं शामिल हैं.

‘श्री राम जन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र’ ने अयोध्‍या में भव्‍य श्रीराम मंदिर के निर्माण कार्य आरम्‍भ होने के अवसर पर लोगों से अपने घरों में दीपक जलाकर दिव्य भव्य अवसर का स्वागत करने की अपील की है. संगठन के महासचिव चम्‍पत राय की ओर से जारी किए गए बयान में यह अपील की गई. 5 अगस्‍त की भूमि पूजन कार्यक्रम का लाइव प्रसारण दूरदर्शन पर किया जाएगा.

अभी से लोग श्रीराम मंदिर निर्माण के शुरूआत को उत्‍सव में बदलने की तैयारी में लगे हुए हैं. ऐसा ही एक वीडियो जो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है, आप भी देखें…

भारत सरकार के मंत्री जितेंद्र सिंह ने एक मनोरम वीडियो शेयर किया है. आप भी देखें….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *