ग्रह नक्षत्रों में बदलाव बन सकता है लगातार सिरदर्द का कारण, योग से करें निवारण

सिरदर्द होना आमबात है. कई बार ये नींद पूरी ना होने, काम का अधिक बोझ होने और अधिक तनाव के कारण हो सकता है. लेकिन क्या आप जानते हैं लगातार सिरदर्द और तीव्र दर्द माइग्रेन का भी लक्षण हो सकता है. बहुत ही कम लोग जानते हैं कि ग्रह नक्षत्रों की चाल और बीमारियों का आपस में गहरा ताल्लुक है.

क्या आप जानते हैं अचानक सिरदर्द होने का सबसे बड़ा कारण मंगल ग्रह है. जब मंगल अपने सही घर में नहीं होता तो सिरदर्द की समस्या हो सकती है. जब मंगल दोष होता है तो माइग्रेन तक की समस्या होने लगती है. लेकिन आपको चिंता करने की जरूरत नहीं. आप योग के जरिए आसानी से सिरदर्द से छुटकारा पा सकते हैं.

चलिए जानते हैं वो कौन से योग हैं जो सिरदर्द से दिलाएंगे छुटकारा.

ध्यान

ध्यान के जरिए आसानी से सिदर्द से छुटकारा पाया जा सकता है. आप ध्यान रोजाना सुबह-शाम या फिर खाने के चार घंटे बाद या पहले कर सकते हैं. ध्यान करने के लिए आप एक शांत जगह पर पद्मासन में बैठ जाएं और आंखें बंद करके, कमर सीधी करके कम से कम 30 मिनट तक अपने ईष्ट देव का स्मरण करें.

कपालभाति प्रणायाम

कपालभाति प्रणायाम योग की ही एक क्रिया है. ये श्वसन तंत्र को मजबूत करते हुए सिरदर्द को दूर करती है. इसे करने के लिए आप पद्मासन में बैठ जाएं. अपने दाएं हाथ के अंगुठे से नाक का एक छि‍द्र बंद करके दूसरे से सांस लें. कुछ समय रूकने के पश्चानत नाक के दूसरे छिद्र से सांस छोड़ें और पहले छिद्र को बंद कर दें. इसी प्रक्रिया को दूसरी ओर से भी करें. जल्द फायदा मिलेगा.

पद्मासन

तनाव से राहत पाने और दिमाग को शांत करने के लिए पद्मासन भी एक उत्तम आसन है. इसके लिए आप चौकड़ी मारकर बैठ जाएं लेकिन दोनों पैरों को एक-दूसरे के ऊपर ऐसे रखें कि पैरों में कसाव महसूस हो. इसके बाद कमर सीधी करके श्वास क्रिया पर ध्यारन दें. सिरदर्द जल्द चला जाएगा.

पश्चिमोत्तानासन

मस्तिष्क को शांत करने और सिरदर्द से भी राहत पाने के लिए पश्चिमोत्तानासन भी कर सकते हैं. इस आसन को जमीन पर बैठकर किया जाता है. इसमें दोनों पैरों को सटाकर हाथों से पैरों के अंगुठे पकड़े और सिर को घुटनों से छूने की कोशिश करें और पीठ एकदम सीधी होनी चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *