व्रत रख रहे हैं तो करें ये 4 योगासन, एसिडिटी की शिकायत होगी दूर

29 सितंबर से नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है और इसके साथ ही भक्तों का व्रत रखने का भी सिलसिला शुरु हो चुका है. व्रत रखकर भक्त माता रानी के प्रति अपनी आस्था दिखाते हैं. लेकिन इस दौरान सेहत का ध्यान रखना भी उतना ही जरूरी है. खासतौर पर अगर आप व्रत के दौरान केवल फलाहारी और बिना नमक का भोजन करते हैं तो आपको अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना चाहिए.

व्रत के दौरान शरीर में एनर्जी की कमी हो जाती है. कुछ लोगों को खाली पेट एसिडिटी की शिकायत होती है और व्रत के दौरान पेट में गैस बनने लगती है. इसलिए व्रत में शरीर को हाइड्रेट रखना को अलावा कुछ योग आसन करना भी जरूरी है. इससे आपकी दिनचर्या की पूरी तरह सही रहेगी. व्रत के दौरान ये योगासन करके आप चुस्त-दुरुस्त रह सकते हैं.

पवनमुक्तासन

इसे करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं और दोनों पैरों को मोड़ते हुए छाती के पास लाएं. सिर और कंधे को थोड़ा ऊपर उठाकर दोनों हाथों से घुटनों के नीचे से पकड़ लें और नाक तक ले आएं. शुरुआत में दो से तीन बार इस आसन को करें. इससे आपकी इन-डाइजेशन की समस्या दूर हो जाएगी.

वज्रासन

इसे करने का तरीका बेहद आसान हैं. आप इसे व्रत का खाना खाने के तुरंत बाद भी कर सकते हैं. घुटनों को मोड़कर सीधे बैठें और कूल्हे को एड़ियों को ऊपर रखें. दो मिनट के लिए इस मुद्रा में बैठें. इसे करने से आपको काफी आराम मिलेगा.

कपालभाति

इसे करने के लिए पद्मासन की अवस्था में बैठें. अब आंखे बंद करें और शरीर को ढीला छोड़ दें. इतनी गहरी सांस लें कि पेट फूल जाए और ऐसे छोड़ें की पेट अंदर की ओर हो जाए. सांस खींचने में बल का प्रयोग ना करें। इस क्रिया को कई बार दोहराने से पेट को आराम मिलेगा.

मयूर आसन

यह एक ऐसा योग है जो कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में सहायक है. मयूर आसन पाचन तंत्र को स्‍वस्‍थ्‍य रखता है. मयूर आसन पेट और इसके अंदरूनी तंत्र को मजबूत करता है जिससे शरीर को मदद मिलती है. अगर आपका पाचन तंत्र कमजोर है तो आप इसे मयूरासन की सहायता से मजबूत कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *